शनि पीड़ा निवारक मंत्र:-

शनि, राहु अथवा केतु ग्रह के पीड़ा से ग्रस्त होने पर शनिवार का व्रत करते समय पूजन के बाद इन मत्रं का जप विशेष प्रभाव दिखाता है। इस मंत्र की एक माला अवश्य जपें ।

shani jap mantra

यह तीनो मंत्र सामान्य जप के मंत्र नहि है, इन तीनो का जप ग्रह पीडा निवारण के लिये किया जाता है।